Entries by Madhuri Singh

राम जन्मभूमिः मीर बकी से मोदी तक और……?

मुजफ्फर इस्लाम रजमी का शेर है – ये जब्र भी देखा है तारीख की नजरों ने, लम्हांे ने खता की थी, सदियों ने सजा पाई। ये शेर राम जन्मभूमि विवाद पर पूरी तरह सटीक बैठता है। वर्ष 1527 में जब बाबर के सेनापति मीर बकी ने अपने सुल्तान के आदेश पर अयोध्या में राम जन्मभूमि […]

Urban Naxals: The Enemy within

Murders Demolition of school buildings Tribal women raped Civilians kidnapped Central Reserve Police Force (CRPF) persons killed Ransoms demanded and yet Naxals are called revolutionaries and not terrorists. The complexity of their existence lies in the dual roles they play, one covert as tribal sympathisers and revolutionaries and another overt as extortionists, terrorists, blood hungry […]

Urban Naxals: The blood thirsty chameleons

Is Naxalism just an ideology? Is it followed by the tribals? Does it have followers in the cities? The poor have no ideology. They follow an ideologist, one who paints them a rosier picture. This ideology was efficiently transcribed by Charu Majumder, who wanted to alleviate poor tribals from the affliction of poverty. What started […]

“अर्बन नक्सलः खूनी दरिंदों का खतरनाक शहरी नेटवर्क” in Punjab Kesari

वो कौन हैं जो पढ़ाते हैं कि भारत तो कभी एक देश था ही नहीं, भारत को राष्ट्र की अवधारणा तो विदेशियों से मिली? वो कौन हैं जो कहते हैं कि भारत ने कश्मीर, नगालैंड जैसे अनेक राज्य जबरदस्ती अपने साथ मिला लिए और जो राज्य आजाद होना चाहते हों, उन्हें आजाद कर देना चाहिए? […]

“Urban Naxals in garb of intellectuals more dangerous than armed Maoists in jungles” published in My Nation

Naxalism in India began more than 50 years ago with the peasants’ armed rebellion in Naxalbari of West Bengal. It was contained soon in a few years. Yet, the Maoist ideology that nurtured the movement remained intact and continued to be supported by intellectuals. The thinking behind this school has been that India did not […]

प्रागैतिहासिक काल व आधुनिक काल की उपलब्धियां : एक तुलनात्मक अध्ययन

 आज मानवजाति प्रगति के नए-नए स्तरों को पार करती जा रही है। उसकी मंजिल की कोई सीमा नहीं है। वह जितना आगे बढ़ रही है, उसकी प्रगति का मार्ग भी उतना ही विस्तृत हो रहा है। लगभग 50 वर्ष पूर्व मनुष्य जिन वस्तुओं की कल्पना भी नहीं कर सकता था, आज वही वस्तुएं विज्ञान की […]