Western Theories of Nationalism and their Relevance to India

When the discussion is on theories of Nationalism three theorists should be mentioned amongst the many  that have contributed to   the field. These three   are   –   Ernst Gellner, Antony Smith, and  Benedict Anderson. Though their theories are detailed and complex,  here it would suffice to lay bare their core  ideas and  their implications for theoretical formulations of Indian Nationalism….

….The second is an anti-colonial Indian perspective. We must first reclaim our  rights over our  History, Identity, and  Civilisation. India’s Hindu roots are  the roots  of all her people, Muslim or Christian or Hindu. Once our roots are discovered we will also discover our  Nationhood.

  • Indian Nationalism

When GIA Turned One – The First Anniversary Celebration Report

Group of Intellectuals and Academicians (GIA)  has m registered its not – to- be – missed presence in the academic and intellectual circles of the country by working tirelessly for almost a year for the society  by being  sensitive to all the current happenings shaking the collective psyche.

Congratulations to  all  GIAites,  especially Monika Arora  ji and  Lalita  Nijhawan ji for leading the  baby  GIA  to  newer heights! Expectations of the  society  are  also  soaring to  take  it  further to  cover  many  miles  and reach  innumerable milestones!

  • Indian Nationalism

विदेशी कलम से भारत गाथा

कोई तो ऐसी बात है भारत में कि जिसे देखकर प्रो. हिरेन ने कहा है-‘‘भारत एक ऐसा देश है जहाँ से न केवल बाकी एशिया बल्कि पूरी पश्चिमी दुनिया अपना अपने ज्ञान और धर्म के स्रोत के रूप में देखती है।’’

  • Indian Nationalism

शैतानी साजिश का मोहरा याकूब

याकूब को फांसी की सज़ा देते समय अदालत ने स्पष्ट कहा कि याकूब मेमन के दृष्कृत्य टाइगर मेमन के कुकर्मो किसी भी मायने में काम नहीं। धम्माको के लिए दोनों टाइगर और याकूब बराबर के ज़िम्मेदार है।

एक ऐसा व्यक्ति, जो पाकिस्तान का आई. एस . आई. की शैतानी चाल का हिस्सा बनकर भारत को दहलाने का षड़यंत्र रचते हुए सैंकड़ो निरपराधियों की हत्या का दोषी सिद्ध हुआ है, की सजा उनके मजहब से तेय होगी अथवा उसके कृत्या से ? यह मूर्खतापूर्ण तर्क है कि उस व्यक्ति के कृत्यों का दंड देने से मुसलमान समाज में गलत सन्देश जाएगा।

  • The Case of Yakub Memon, Lessons to be Learnt

सार्थक बदलाव की पहल

इस सार्थक बदलाव के लिए नारी चेतना को संगठित होकर परिवार और समाज के दो नोटू के बीच अपना विस्तार करना है तभी यह राष्ट्र व्यापी ऊर्जा डीप से जलाती हुई  घर, गॉव, शहर को सद्भाव और सफलता के प्रकाश से आलोकित कर सकेंगे. इस अनुष्ठान का शुभ समय आ गया है.

  • Challenges for Women in the 21st Century

Browse by year (please scroll back down after selecting the year)